कोहरे व धुंध के कारण बिगड़ी ट्रेनों की चाल, लगातार देरी के कारण यात्री परेशान

कोहरे व धुंध के कारण बिगड़ी ट्रेनों की चाल, लगातार देरी के कारण यात्री परेशान

December 24, 2018 0 By Amit kumar
  • घर से सफर के लिए निकल रहें है बाहर तो पहले ही जान ले ट्रेनो का स्टेटस
  • कोहरे व धुंध के कारण ट्रेने 2 से 4 घंटे तक लेट
  • दिल्ली से फिरोजपुर पेसेंजर ट्रेने रद्द
  • स्टेशन अधीक्षक बोले धुंध से हो रही ट्रेनों की गति हो रही है कम

सुबह एवं शाम के समय पड़ रही घनी धुंध के साथ कोहरे ने सड़क ही नहीं रेल यातायात को भी बुरी तरह से प्रभावित किया है। रविवार को कड़ाके की ठंड के बीच लंबी दूरी की रेलगाडिय़ां 2 से 4 घंटों की देरी से पहुंची। हालांकि पैसेंजर ट्रेनों पर कोहरे का ज्यादा असर नहीं दिखा व लगभग सभी अपने निर्धारित समय से कुछ समय की देरी के साथ पहुंच रही हैं लेकिन लंबी दूरी की गाड़ियां घंटों देरी के साथ चलने के कारण रेल यात्रियों को भारी मुश्किलों को सामना करना पड़ रहा है।

ये भी पढ़े-

रेलवे ने दिल्ली से फिरोजपुर के बीच की दो पेसेंजर ट्रेनों को पहले ही रद्द कर दिया है। वहीं श्रीगंगानगर से हावड़ा तक जाने वाली उद्यान आभा तूफान मेल को भी कोहरे के कारण आगरा तक ही चलाया जा रहा है। ट्रेनों के देरी से चलने पर यात्रियों के पास कोई विकल्प भी नहीं है लेकिन ज्यादातर यात्री इस समय ट्रेनों का ट्रैक स्टेटस जानकर ही घर से बाहर निकलना बेहतर समझ रहे हैं।

लेकिन पिछले स्टेशनों से आने वाले यात्रियों को अपने गंतव्य पर समय से पहुंचना संभव नहीं हो पा रहा है। जिससे उन्हें सबसे ज्यादा परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। शुक्रवार को फिरोजपुर से चलकर मुंबई सेंट्रल तक जाने वाली पंजाब मेल एक्सप्रेस ट्रेन जाखल में अपने निर्धारित समय रात 1 बजे की बजाय 2 घंटों की देरी के साथ पहुंची तो वहीं शाम दिल्ली से श्रीगंगानगर जाने वाली इंटरसिटी एक्सप्रेस भी ढाई घंटे की देरी से पहुंची।

इसके अलावा फिरोजपुर से मुंबई जाने वाली जनता एक्सप्रेस, फिरोजपुर से दिल्ली सरायरोहिल्ला जाने वाली छिंदवाड़ा एक्सप्रेस भी करीब 1-1 घंटा की देरी से पहुंची। ट्रेनों के देरी से चलने के कारण यात्रियों को मुश्किलों का सामना करना पड़ा। ट्रेनों के देरी से चलने की सूचना पूछताछ केंद्र के साथ साथ रेलवे के टोल फ्री नंबर 139 पर भी दी जा रही है।

धुंध व कोहरे के कारण होती है गति कम

स्टेशन अधीक्षक सूरजभान शर्मा ने कहा कि धुंध एवं कोहरे के समय सिग्नल दिखाई न पडऩे के कारण ट्रेन के ड्राइवर को गाड़ी की गति में कमी करनी पड़ती है। हालांकि रेलवे सिग्नल को देने के लिए रेलवे ट्रैक पर पटाखों का भी प्रयोग करता है लेकिन सर्दी के मौसम में रेलवे ट्रैक के सिकुड़ने की वजह से भी ट्रेनों की गति कम रखी जाती है। गति में कमी होने के कारण ही ज्यादातर लंबी दूरी की ट्रेनें देरी से पहुंच रही है। जबकि पेसेंजर गाड़ियां लगभग समय पर ही आ रही है।