इस प्रोफेसर ने खोज निकाला बुमराह की गेंदबाजी की सफलता का राज, जानिए

इस प्रोफेसर ने खोज निकाला बुमराह की गेंदबाजी की सफलता का राज, जानिए

May 19, 2019 0 By Sports writer

वर्ल्ड कप शूरु होने में अब बस कुछ और दिन बाकी रह गए है। ऐसे में लगातार भारतीय खिलाड़ियों के प्रत्येक खिलाड़ी के प्रदर्शन का आंकलन किया जा रहा है। ऐसे में जसप्रीत बुमराह की घातक गेंदबाजी पर एक प्रोफेसर ने अपनी रिपोर्ट पेश की है। आईपीएल के बारहवें सीजन में मुंबई इंडियंस को चैंपियन बनाने में अहम भूमिका निभाने वाले तेज गेंदबाज जसप्रीत बुमराह इस समय विश्व क्रिकेट में सबसे खतरनाक गेंदबाजों की श्रेणी में शामिल हो चुके हैं। क्रिकेट के भगवान कहे जाने वाले मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर ने भी इस बात पर मुहर लगा दी है कि इस समय बुमराह से अच्छा गेंदबाज विश्व क्रिकेट में और कोई नहीं है।

बुमराह ने बहुत ही कम समय में एक ऐसा मुकाम हासिल कर लिया है जिसे लोग सालों की मेहनत करने के बाद भी नहीं हासिल कर पाते हैं। बुमराह की सफलता का राज अभी तक कोई भी नहीं जान पाया था लेकिन आईआईटी कानपुर के एक प्रोफेसर ने बुमराह को मिली कामयाबी का राज खोल दिया है। आईआईटी-कानपुर के प्रोफेसर संजय मित्तल ने बुमराह की गेंदबाजी पर रिसर्च की और अंत में उनकी कामयाबी का श्रेय ‘रिवर्स मैग्नस फोर्स‘ को दिया।

Reverse Magnus Force Bowlingअपने एक अध्ययन में, मित्तल ने बताया कि कैसे बुमराह की गति, सीम स्थिति और 1,000 RPM की रोटेशनल गति गेंद को केवल 0.1 का स्पिन अनुपात देती है इसलिए इसे ‘रिवर्स मैग्नस इफेक्ट’ कहा जाता है। ‘बुमराह की गेंद तेजी से नीचे की ओर झुकती है, जिस कारण बल्लेबाजों को उनका सामना करने में परेशानी होती है।’

जसप्रीत बुमराह ने अब तक खेले गए 77 आईपीएल मैचों में 82 विकेट, 49 वनडे मैचों में 85 विकेट, 10 टेस्ट में 49 विकेट और भारत के लिए 42 T20I में 51 विकेट हासिल किए हैं। हाल ही में संपंन्न हुए आईपीएल फाइनल में भी चेन्नई सुपर किंग्स के खिलाफ बुमराह को ‘मैन ऑफ द मैच’ का पुरस्कार दिया गया था।